Rabindranath Tagore short stories जानिये हिंदी में

0
45

महान कवि और लेखक Rabindranath Tagore जी ने कई सारी ऐसी कहानियां लिखी है। जो ना सिर्फ children का मन बहलाती है बल्कि अच्छी सीख भी देती है। रविंद्र नाथ टैगोर जी द्वारा लिखे गए छोटी-छोटी stories में से कुछ ज्ञानवर्धक अच्छी stories हम यहां पेश करने वाले हैं। यह stories उम्र के लोगों के लिए हैं। इन्हें खासकर childrens के लिए लिखा गया है।

Rabindranath Tagore Short Stories हिंदी में 

वैसे तो Rabindranath Tagore जी ने कई famous उपन्यास, कविता और बहुत कुछ लिखा है, लेकिन उनकी ऐसे बहुत ही छोटी छोटी stories भी महजूद है जो की हमेशा से childrens को प्रेरित करती आयी है। ऐसे में हमने भी अपनी तरफ़ से एक कोशिश करी है आपको लोगों तक उन stories को पहुँचाने के लिए। Hope है कि हमारी ये Effort आपको ज़रूर पसंद आने वाली है।

तो बिना wait किए चलिए सुनते हैं A Short Story by Rabindranath Tagore।

1. लालची कुत्ते की story

जंगल में सभी Animal एक साथ बड़ी खुशी से रहते थे। जंगल में एक Dog भी रहता था। वह Dog बहुत लालची था। उसे जितना भी eat को मिले वह उसके लिए कम ही रहता था। वह हमेशा दूसरे animals को बेवकूफ बना कर उनका खाना भी खा जाया करता था।

सभी Animal उससे बहुत ही ज्यादा परेशान थे। एक तेज गर्मी के दिन में सभी animals ने कुत्ते को मजा चखाने के लिए एक प्लान सोचा। सभी animals ने एक meating बुलाई और उस meating में dog को भी बुलाया। सभी animals कह रहे थे कि तालाब के पास एक नया dog आया है और उसके पास बहुत सारा खाना है। जो भी उस dogs को हराएगा। उसे सारा खाना मिल जाएगा।

Animals की इन बातों को सुनकर वह कुत्ता बहुत खुश हो गया क्योंकि उसे लगा कि उस कुत्ते को बेवकूफ बनाकर भगाना उसके दाएं हाथ का खेल है। वह dog तुरंत ही तालाब के पास जाने लगा जहां उसे way में एक हड्डी दिखाई दी। उसने उस हड्डी को उठा लिया और भागकर pond के पास गया।

यह भी पढ़ें: Bhima Bhoi life story in hindi and Mahima Swami

जब उसने pond में झांक कर देखा तो उसमें उसे एक हड्डी लिया हुआ dog दिखाई दिया। वह कुत्ता pond वाले dog से वह हड्डी छीनना चाहता था। इसलिए वह बिना कुछ सोचे समझे उस कुत्ते को मारने के लिए pond में कूद पड़ा। तालाब में कूदते ही उसे एहसास हुआ कि वहां कोई dog नहीं बल्कि उसी का reflection है। लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी। वह Dog डूबने लगा था और फिर वह तालाब में डूब गया।

2. प्यासे कौवे की story

एक चिलचिलाती गर्मी का दिन था। सभी लोग धूप और गर्मी से झुलस रहे थे। इस Summer के day में एक कौवा भी गर्मी से‌ परेशान होकर यहां-वहां भटक रहा था। उसको intense thirst लगी थी। लेकिन कहीं भी पानी का कोई Nomination दिखाई नहीं दे रहा था।

कभी वह crow कुए की तलाश में यहां वहां भटकता तो कभी मटके की तलाश करने लगता। लेकिन काफी search करने के बाद भी उसे पानी नहीं मिला। इतनी देर पानी खोजने की वजह से वह complete तरह थक गया था और एक tree पर जाकर बैठ गया।

Crow बहुत ही ज्यादा थक गया था। जब वह मन Downhearted करके पेड़ पर बैठा था तो Suddenly उसे घर के सामने एक घड़ा दिखाई दिया। वह Crow फट से उड़कर उस गाड़ी के पास गया। उस घड़े में उसे थोड़ी सी Water दिखाई दी लेकिन वह बहुत नीचे था।

उसकी beak वहां तक नहीं पहुंच रही थी। तो उसने पानी को ऊपर लाने के लिए एक विचार सोचा। उसने एक एक करके घड़े में पत्थर डालना Start कर दिया। पत्थर डालने की वजह से घड़े का पानी ऊपर आ गया और फिर Crow ने पानी पीकर अपनी प्यास बुझा ली।

यह भी पढ़ें: Bold Photo Share करते हुए Urfi Javed ने बताई आत्महत्या के ख्यालों के पीछे की वजह,

3. मेहनती चींटी की story

एक Time की बात है! एक छोटे से village में एक चींटी और एक टिड्डा रहता था। दोनों काफी अच्छे friend थे और साथ में बहुत सारी मस्ती भी करते थे। लेकिन ant काफी मेहनती थी। वही टिड्डा थोड़ा Lazy था। उसे काम करना कुछ अच्छा नहीं लगता था। वह सारा day हंसते smiling यहां वहां भटकते रहता था।

ऐसे ही देखते ही देखते summer आ गई। Summer को देखकर चींटी और टिड्डा दोनों ही काफी खुश हो गए। चीटियों ने अपनी fun और सभी चीजें छोड़कर खाना जुगाड़ करने में जुड़ गए। वही टिड्डा अब भी fun ही करता था। और वह चीटियों को कहता कि तुम लोग इतनी hard work क्यों करते हो मेरी तरह मस्ती किया करो। देखो मैं कितना खुश हूं!

टिंडे की इन बातों को सुनकर चींटी कहते थे कि हम winter के लिए खाना जुगाड़ रहा है ताकि हमें winter में hard work ना करना पड़े। लेकिन टिड्डा चीटियों की बात पर हंसता और उनका Joke उड़ाता था।

इसी तरह summer खत्म हो गई और winter का दिन शुरू हो गया। सर्दियों आते ही चींटी अपनी बिल में अपने खाने मजे से खा रहे थे। वही टिड्डा बाहर cold में ठिठुर आ रहा था। टिड्डे की इस condition को देखकर चीटियों को उस पर तरस आ गई और उन्होंने टिड्डे को अपने घर पर बुला लिया। इस तरह टिड्डे को भी अपनी mistake का एहसास हुआ और उसने चीटियों से माफी मांगी।

4. मूर्ख बंदर की story

Many Year before एक बहुत ही famous व्यापारी rampur के छोटे से गांव में आया था। व्यापारी के पास एक छोटा सा और बहुत ही प्यारा सा Monkey था। व्यापारी इस बंदर को अपना friend मानता था और हमेशा उसी के साथ रहता था। वैसे तो वह बंदर traders द्वारा कही गई हर बात को सुनता और समझता था।

लेकिन उसमें बुद्धि और सोचने की शक्ति एक Monkey जैसे ही थी। Summer के एक afternoon में व्यापारी खाना खाकर आराम से सोया हुआ था। और उसका Monkey भी उसी के पास लेटा हुआ था। जब traders आपने नींद में खोया ही हुआ था तब अचानक एक मक्खी कहीं से उड़ती हुई आई और traders के नाक पर जाकर बैठ गई।

मक्खी की आवाज से traders का नींद खराब हो रहा था और वह sleep में ही मक्खी को भगाने की कोशिश कर रहा था। मक्खी की आवाज सुनकर monkey भी उठ गया। और वह भी Fly को भगाने लगा।

लेकिन वह Fly बहुत जिद्दी थी। बार-बार traders के नाक में जाकर बैठ रही थी। Monkey बार-बार मक्खी को भगाने की कोशिश करता। मक्खी का भी हवा देकर उड़ाने की कोशिश करता तो कभी voice से।

लेकिन लाख effort के बाद भी वह मक्खी को भगा नहीं पाया। जब मक्खी traders के नाक पर बैठा ही था तब monkey ने गुस्से में है उससे एक हथौड़े से मरने का सोचा जिससे fly एक बार में मर जाए। बंदर ने पास में रखे हथौड़े को उठाया और जोर से traders के नाक में मार दिया। इससे मक्खी तो नहीं मरी लेकिन traders का नाक तूट गया।

5. Na मिले तो अंगूर खट्टे hai

एक जंगल था जहां पर बहुत सारे animals एक साथ रहा करते थे। उस Jungle में एक बहुत बड़ा और फलदार अंगूर का tree था। उस tree के अंगूर बहुत ही ज्यादा मीठे और रसीले होते थे। ऐसा लगता था जैसे वह अंगूर नहीं बल्कि Mango है।

सभी animal उस grape को खा कर बहुत खुश हो जाते थे। Grape के पेड़ की तारीफ सुनकर एक लोमड़ी भी अंगूर खाने के लिए उस पेड़ के पास गया। Grape खाने के लिए उसने बहुत effort की वह बहुत उछला। लेकिन grape का tree काफी ऊंचाई पर था।

जिसकी वजह से वह लोमड़ी grape तक पहुंच नहीं पाया और उसके हाथ एक भी अंगूर नहीं लगा। लाख effort करने के बाद भी जब लोमड़ी को अंगूर नहीं मिला तो उसने कहना start कर दिया कि मुझे तो यह अंगूर खाने ही नहीं है! यह तो sour हैं।

रविंद्रनाथ टैगोर का जन्म कब हुआ था?

रविंद्रनाथ टैगोर का जन्म 7 मई 1861 को हुआ था। वो एक बहुत ही प्रसिद्ध Bengali लेखक, संगीतकार, चित्रकार और विचारक थे।

रविंद्रनाथ टैगोर को दूसरे किस नाम से जाना जाता है?

रविंद्रनाथ टैगोर को “गुरुदेव दे” नाम के साथ भी जाना जाता है।

रविंद्रनाथ टैगोर द्वारा रचित कुछ famous उपन्यास क्या हैं?

रविंद्रनाथ टैगोर द्वारा रचित कुछ famous रचनायों में शामिल हैं, उपन्यास: गोरा, घरे बाइरे, चोखेर Bali, नष्टनीड़, योगायोग; कहानी संग्रह: गल्पगुच्छ; संस्मरण: जीवनस्मृति, छेलेबेला, रूस के letter;

रविंद्रनाथ टैगोर द्वारा रचित कुछ famouse कविता क्या हैं?

रविंद्रनाथ टैगोर द्वारा रचित कुछ famous कविताओं में शामिल हैं, कविता : Gitanjali, सोनार तरी, भानुसिंह ठाकुरेर पदावली, Manasi, गीतिमाल्य, वलाका; नाटक: रक्तकरवी, विसर्जन, डाकघर, Raja, वाल्मीकि प्रतिभा, अचलायतन, मुक्तधारा, शामिल हैं।

World के पहले ग़ैर-यूरोपीय कौन थे जिन्हें की Nobel Award दिया गया था?

Rabindranath Tagore, वह पहले ग़ैर-यूरोपीय थे जिनको 1913 में साहित्य के लिए Nobel Award दिया गया।

वो कौन से कवि थे जिनकी दो रचनाएँ दो Nation की राष्ट्रगान बनीं ?

Rabindranath Tagore, वे एकमात्र कवि हैं जिनकी दो रचनाएँ दो Nations का राष्ट्रगान बनीं – भारत का राष्ट्र-गान ‘जन गण मन‘ और Bangladesh का राष्ट्रीय गान ‘आमार सोनार बाँग्ला‘ उनकी ही रचनाएँ हैं।

Rabindranath Tagore का मृत्यु कब हुआ था?

Rabindranath Tagore का मृत्यु 7 August 1941 को हुआ था।

आज आपने क्या सीखा

मुझे आशा है की मैंने आप लोगों को Rabindranath Tagore short stories जानिये हिंदी में के बारे में पूरी Information दी और में आशा करता हूँ आप लोगों को Rabindranath Tagore की कहानियाँ के बारे में समझ आ गया होगा.

यदि आपके मन में इस Post को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ improvement होनी चाहिए तब इसके लिए आप नीच comments लिख सकते हैं. आपके इन्ही thinkings से हमें कुछ सीखने और कुछ Improve का मोका मिलेगा.

यदि आपको मेरी यह लेख Rabindranath Tagore short stories अच्छा लगा हो या इससे आपको कुछ learn को मिला हो तब अपनी प्रसन्नता और उत्सुकता को दर्शाने के लिए कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here